Thursday, December 09, 2004

ग्वडनिच कथ

कथ छ्य न॒ च़कि किहीं। अख कथा कर॒ ओर॒च, अखा कर॒ योर॒च। सुति येलि द‌्यमागस मंज़ यियम कॆंह। फिलहाल ओसुम मक़सद यि ज़ि, ब॒ बनाव॒ दुनिय॒हुक ग्वडन्युक कॉशुर ब्लाग। बायव, अगर काँसि छुनव बॆयि बनोव॒मुत, मॆ वॅनिव, नत॒ क्या छु मॆ गिन्यस बुक वाल्यन लेखुन.

2 comments:

Raman Kaul said...

अख ज़॒ त्रे, यि छुस ब॒ ट्यस्ट करान। वैसे ति येलि न॒ काँसी ल्यूख, लिहाज़ा छुस पानय लेखान।

Shehnaz said...

Dear Mr. Kaul,

It was nice to visit your Kashmiri Blog site and felt too nostalgic to read the poem Wath mei aslitch hawtam.

Good Job sir.

Regards,

Shehnaz